शनिवार, 6 जुलाई 2013

सौन्दर्य वर्णन





कृष्ण मेघ से कृष्णता, ले केशों में डाल |
उठा दूज का चाँद ज्यों, रचा विधाता भाल |

खिची कमान भोंहें रची, पलक सितारे डाल |
नयन कटीले रख दिए, मृग से नयन निकाल |

तीखी, सीधी और खड़ी, रची विधाता नाक |
रक्तवर्ण, रस से भरे, रचे होंठ रस-पाक |

चिबुक अनारों से रचे , ठोड़ी पर तिल तीन |
दंत पंक्ति दिप-दिप दिपें, ज्यों मोती रख दीन |

ग्रीवा का भी रूप क्या, सुरा भरा सा पात्र |
भुजवल्लरि ऐसी बनी, पुष्प लदे हों मात्र |

उठा हिमालय से धरा, दो शिखरों का भार | 
भार धरा कैसे सहे, कृष तन है लाचार  |

बांकी बड़ी कटार सा, सौम्य कमर  का रूप | 
क्षीण सुगढ़ ऐसी लगे, लघुतम धरा स्वरूप |

शिखर भार को साधने, विधना ने अविलम्ब |
विन्द्याचल से धर दिए, उन्नत सुगढ़ नितम्ब |

स्वर्ण-कमल की नाल से, सृजित तुम्हारे पैर |
रूप तलैया डूब कर, कौन सकेगा तैर |

स्वर्णिम तारक से जडित, तन गुलाब की पांख |
निमिष 'राज' तुमको तके, टिक जाती है आँख |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें